MukeshWrites

रास्ते मेरा वजूद

दुनिया के पास मैंखुद से ही दूर गयाअज्ञात वजूद मेराधुंध में उछल गया याद आयी जड़ें मेरीजब शहरों में मचल गयामाँ का प्यार, पुकारसब याद आयाजो रिश्तों की ठंड में भीमोम से पिघल गया ज़मीर के किस्से खूब सुनेकुछ फूल बंजारे चुनेबिखर के रह गयी इंसानियतसिक्को की छनक भी खूब गिने याद आया गांवगांव कीContinue reading “रास्ते मेरा वजूद”

Faceless

It’s just a coverLies the oceanOcean of beauty and beastHidden within it Oh c’mon, don’t be a foolDon’t tell me you already knew thisOh is it everyone knows then?Am I the onlyStill thinking it as a abstract philosophy So, I am foolI won’t say it came as surpriseBut what’s the fun in being shrewdWhat’s theContinue reading “Faceless”


Follow My Blog

Get new content delivered directly to your inbox.