थोड़ी सी प्यास बचाई है

सूखती हलक के रास्ते
रूठी धड़कनों के वास्ते
समन्दरों की छाँव में
ऐ मेरी ज़िन्दगी,
थोड़ी सी प्यास बचाई है

बेच दी अपनी मंज़िल
गिरवी रखी है अपनी सांसें
खरीदें हैं कुछ रास्ते
दो कदम का साथ हो तेरा
ऐ ज़िन्दगी,
खामोश राहों में एक रात सजाई है

खेल ये अरमानों का
खेलेंगे कब तक
गीले आस्मां में उडी है मेरी पतंग
डोर थामी जो तूने ऐ ज़िन्दगी

तैर आया नदियों के रास्ते
बालपन के सपनों के वास्ते
तड़पते बादलों की छाँव में
ऐ मेरी ज़िन्दगी,
थोड़ी सी प्यास बचाई है

3 thoughts on “थोड़ी सी प्यास बचाई है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: