रास्ते मेरा वजूद

दुनिया के पास मैं
खुद से ही दूर गया
अज्ञात वजूद मेरा
धुंध में उछल गया

याद आयी जड़ें मेरी
जब शहरों में मचल गया
माँ का प्यार, पुकार
सब याद आया
जो रिश्तों की ठंड में भी
मोम से पिघल गया

ज़मीर के किस्से खूब सुने
कुछ फूल बंजारे चुने
बिखर के रह गयी इंसानियत
सिक्को की छनक भी खूब गिने

याद आया गांव
गांव की गलियां
कच्चे आम की खुसबू
चटक सफ़ेद महुए की सराफत
याद आयी बिन बिजली की रातें
सूरज की छाँव के वो सुनहरे दिन

Faceless

It’s just a cover
Lies the ocean
Ocean of beauty and beast
Hidden within it

Oh c’mon, don’t be a fool
Don’t tell me you already knew this
Oh is it everyone knows then?
Am I the only
Still thinking it as a abstract philosophy

So, I am fool
I won’t say it came as surprise
But what’s the fun in being shrewd
What’s the life of an unbroken heart
Too boring ?

You are all welcome
Come oh you puppets of my life,
Beat my expectations
Beat my beats
Beat my breaths

Oh, I am gonna love this
Too much fun
Damn the reality, emotions, care
I don’t care.




जड़ें आसमाँ की

उड़ चला था एक पंछी
फड़फड़ाते आसमाँ में
जले थे दीप आँखों में
उम्मीदें भी पतंग थी

ढूंढते चिराग की ज़मीन
इरादे बुलंद थे
ऊँची ज़मीन, सजे हुए सपने
ना जाने हवाओं ने क्या क्या दिखाया

उन्माद में नए रास्तों के
जीवन की डोर थामने की कशिश
उड़ रहा था एक पंछी
बिजली से कड़कती आसमाँ में

रात हुई जो चाँद के इशारे पे
सितारों की नज़रें मिली ज़मीं की धूल से

चाहत हुई पंछी को आईने की
नज़रें मिली जो खुद से
आँखें नम हुई उसकी
खो गयी थी जड़ें कहीं
उड़ते उड़ते झिलमिल आसमाँ में

पतझड़ वसंत

खुशबू बरसात की
ढक रही ज़ारों की धुप को
शाम की उलझन
समेट रही हैं गुनगुनी सुबहों को

गगन की पहुंच दूर है
ज़मीन भी आस्मां की है
मुसाफिर मैं
खुद की उमीदों का

जली हैं धड़कनें
आग की इश्क़ में
झगड़ गया खुद के अरमानों से
हारा खुद के ही पैमानों से

खबर नहीं थी मुझको
खुद के ही लिबास की
किस दोराहे पे मिला हूँ तुझसे
ऐ ज़िन्दगी
डर तुझे खोने का है
और पाने का एहसास भी

थोड़ी सी प्यास बचाई है

सूखती हलक के रास्ते
रूठी धड़कनों के वास्ते
समन्दरों की छाँव में
ऐ मेरी ज़िन्दगी,
थोड़ी सी प्यास बचाई है

बेच दी अपनी मंज़िल
गिरवी रखी है अपनी सांसें
खरीदें हैं कुछ रास्ते
दो कदम का साथ हो तेरा
ऐ ज़िन्दगी,
खामोश राहों में एक रात सजाई है

खेल ये अरमानों का
खेलेंगे कब तक
गीले आस्मां में उडी है मेरी पतंग
डोर थामी जो तूने ऐ ज़िन्दगी

तैर आया नदियों के रास्ते
बालपन के सपनों के वास्ते
तड़पते बादलों की छाँव में
ऐ मेरी ज़िन्दगी,
थोड़ी सी प्यास बचाई है

Mirage of Freedom

I don’t know what prisons us more
Mirth of success ?
Slush of failure ?
Or something more timeless ?
And Omnipresent

Who controls our freedom ?
Something external,
Out of our control ?
Or Something very internal ?

Is freedom of thoughts,
Only true freedom,
Which can liberate us from all ?

Or are we already free ?
May be our brain is hiding something,
Playing a game of mirage ?
Free but not free

Are we just any realisation away ?
To be a free bird over infinite ocean,
Scaling heights of unlimited sky
With an Open arm ?

मुस्कान बंद लिफाफे की

रवानी है सोच की
एहसास झिलमिल साँसों की
नज़्म मेरी संवर गयी
जो झलक मिली उस खवाब की

शंख-नाद क्या कल का है
बजी जो धुन इरादों की
खुशबू क्या चेनाब की है
आस में लोट पोट, रम गयी आहें
इंतज़ार क्या बस अब वक़्त का है

बिखरने दो अब मेरी सांसें
जोश धड़कनों में है
गगन से दूरी अब बर्दाश्त नहीं
हाथों की लिखावट
अब पैरों में थिरक रही
चाहत है उस मंज़िल की
जिसकी मुस्कान बंद लिफाफे सी है

Natural Care

Beyond the rise of days
Fall of nights
Nature is always on move
Peace of mountains
Massaging breaths

Twinkling, smiling dews
Living life of compassion
Laughing Paddy, Barley, Wheat
Emotions riding high
With Swaying wind

While Chaos looks to dominate
With a perception of being inevitable
A non ending song of melancholy
Nights of waning moon

Sun sets, rises
Perception of nothingness goes
As what is eternal is
Glory of nature
And nature stands for nothing
But life of hope, love and care.

Tears Or Laughter

A Pearl within a Oyster
The world would say
For it doesn’t know
What you can hide

Pleasure of smiles,
The very joy of my existence
Idea that exists
As a carrier of philosophy
A messanger of alive Soul

Tears are as worthy though
A friend with broken hearts
A hand of togetherness
A shoulder to reality at times

Exclusivity for none
For I can’t exchange
My tears for laugh
Or laugh for tears.

तलब सोखती धुप की है

असहज है आस्मां थोड़ा
ज़ाहिर है ज़मीन की तड़प भी
कैद सांसें हवाओं की
लहरें घबरायी सी हैं

तूफ़ान ख़ामोशी की
घेर रही रास्तों को
काँप सी रही रूह
हंसती वसंत की

खुली आँखें चाँद की
अँधेरा अब गले तक है
लड़खड़ा रहे अब पाँव
जाँबाज़ बरगद के

तलब रौशनी की है
एहसास हो भरोसे का
टूटे अशांत
धड़कनों का सन्नाटा
छलक रही आँखें
तलब सोखती धुप की है