गरीब किसान

राज़ दफ़न हैं कईंमेरे बेलफ़्ज़ ख़ामोशी मेंदर्द मेरे भूख कीदिखती नहीं अब मेरी आहों में हवाएं चलीं, गुजर गईंबदन कल भी नंगा थाहिम्मत आज भी बुलंद है पिछली बारिश घर की दीवारें बहा ले गईंलकड़ियां काटते काटते बारिश फिर आ गईंवो फूस की छत पे फिर भी गुमान हैनहीं झेल पाएंगी वो आंधी-ए -दंश शायदलेकिनContinue reading “गरीब किसान”

अब तो बस कुछ करेगा तू

मत बैठ अब शांतमंदिर, मस्जिद, चर्च की शक्ल मेंअब तेरा कल नहीं उड़ा अपनी पतंगधागा भी अब खुद का रखबहुत सुन ली जग की तूनेअब शेर सा कलेजा रख तोड़ अपनी सोच की दीवारसमय पे अब करना है वार दूसरे की जलाई आग में अब नहीं जलना हैआग लगा खुद की, अब सीने मेंउबलने देContinue reading “अब तो बस कुछ करेगा तू”

माफ़ी माँग लूँगा मैं

नाराज़ क्यों हैं ये हवाएं मुझसेजो खिड़की पे आती नहींकोई खता हुई तो बता दो नामाफ़ी माँग लूँगा मैं मेरे जीने का बहाना तूमेरे सांसें एहसान हैं तेरीआखिर हूँ तो एक मानव हीगलतियां हुई हैं मुझसेआज भी, पहले भीवादा नहीं कर रहा हूँ आगे नहीं होंगीवादा तो बस इतना तुझे खोने से पहलेमाफ़ी माँग लूँगाContinue reading “माफ़ी माँग लूँगा मैं”

Lonely but Sweet, My Office formals

Fuming in lonelinessAngry eyes staringthough dying for attentionRanting loudly were my office formals We were together, always together,Be it rain or scathing humidityWe were always with youHiding your sweat of stressWe protected youWe made you look good, ‘It’s been months I didn’t meet my blue lower half’My shy white shirt quibbled slowly,And where have youContinue reading “Lonely but Sweet, My Office formals”

A Red flower in a stormy Ocean

It was a stormy dayTides taking shape of hurricanesClouds roaringSky trembling in fearAs Rain was loud Frightening were those lighteningOcean was full of vigourReady to accept or destroyAnything crossing its way Weather reports flashing on TV screens,Viewers, this is biggest calamity of our timesForgiven for covid, Is Mr. Chief Minister still sleeping? Fear gripping intoContinue reading “A Red flower in a stormy Ocean”

Take my eyes, hold the day

Time is getting toughSo are youDon’t heed to the clutter of your mindRead into clarity across the curtains No one can reject youNo one can make you feel dejectedSomeone not liking you,Is not your problem There is nothing as wrong or rightDifferent colours of lenses, different viewsAccept this moment as it is.Loosen yourself in thisContinue reading “Take my eyes, hold the day”